मैया किशोरी जु को सजा रहीं हैं

ओ लाली मेरी            प्यारी दुलारी

        कहकर जसोदा सजाये,

चमकीले लट               काले घन-घट,

        संवारकर वेणी बनाये ।

 

कितने दिनों की आस             आज बुझाये मैया प्यास

               हाथों से राधा को सजाये,

पहिनाये नवीन वसन            और कीमती भुषण,

               प्यारी को पुचकारती जाये ।

 

ऐसो मांग का सिन्दूर             कि उदित सूरज के गुरूर        

तोड़कर करे चूर चूर ।           

तिलक पे अलक[1]                  ललाट पे झलक

               पलक में ध्यान करे दूर[2]

 

जोगी-मुनि-जन                   के मोहित करे मन

               जब लट बलखाये,

तपस्वियों की क्या बात          कामदेव को दे मात

               उनके नख की छटाएँ ।  

 

नयन युगल         में सजाया काजल,

               पोंछा सुन्दर मुख,

भौंहों की रंगीली          भंगिम छबीली,

               मन्मथ को दें दुख ।

 

नासा के उपर              सुन्दर बेसर

               साँसों के संग डोले,

पुरुष-रतन                  को कर दे ख़तम

               उन की जान से खेले ।

 

कान के कान-फूल         हैं अमोल-अतुल

               जिसकी छटा रवि को घटाये,

दीवाना परवाना          हुआ अनंग मस्ताना[3]

               चरणों में लोट्पोट खाये ।

 

चन्दन-चर्चित              परम पुनीत

               पीन-पयोधर[4] जोड़

कञ्चुकी कसकर           उनको ढंक कर

               खींच दिया डोर ।

 

प्रवाल प्रबल[5]              आलोकित झलमल[6]

               बीच में काली मोती,

हेम हीरे मणि              इसपे है बूनी

               कञ्चुकी बिखेरे ज्योति ।

 

माँ यशोमती                              है प्यार की मूर्ति

               राई को लिया गोद में,

ये सब भुषण                              करके जतन

               पहिनाया उनके गले में ।

 

हृदय पे हीर-हार                 लागे अति मनोहर

               उसपे पदक[7] का साज,

देख कर दिनकर[8]          किरणों को समेटकर

               घर लौटे वह निलाज[9]

 

राम[10] काम शाला[11]             शंख शशिकला[12]

               शोभे बाहों पर ।

रतन कंगन                         बजे कनकन झनकन

               देखे काम चमककर ।

 

गाढ़े तार का साज                जैसे गति कामराज

               बाहों में पहिनाये,

उंगलियों पर अंगूठी              हैं ऐसी अनूठी

               काम का गुरूर कुचलाये ।

 

मेघ के गर्व                         को करे खर्व

सुन्दर नीला वास,

किंकिणी की आवाज़             जैसे मधुर साज़

बोले नट्खट भाष ।

 

मंजीर पैंजन                करके जतन

               पग में पहिनाये शेखर,

जसोदा-रोहिनी                   उल्लसित अपनी

               धनी को हसीन सजाकर  ।




[1] ज़ुल्फ

[2] राधाजी के ललाट पे जो तिलक या बिन्दी है, उसपे ज़ुल्फ गिर रहा है, इससे उनकी खूबसूरती और बढ़ रही है ; इसे कोई योगीन्द्र भी देखे, तो पलक झपकते ही उसका ध्यान टूट जायेगा ।

[3] अनंग अर्थात कामदेव (यहाँ पर श्यामसुन्दर) जिनका अन्दाज़ मस्ताना है, राधाजी के दीवाने हो जाते हैं ।

[4] स्तन

[5] गहरे लाल रंग के प्रवाल

[6] यह कञ्चुकी वर्णना है ।

[7] लॉकेट

[8] सूरज

[9] बेशर्म  की तरह लौट आया ।

[10] रामिणी ; रमण करनेवाली ;  यहाँ पर  राधाजी ।

[11] काम-कला का आलय

[12] बाहों पर अलंकार पहनी हुयीं हैं; यह अलंकार चन्द्रकला के आकार के शंखों से बना हुआ है ।

  1. Nida Curtsinger’s avatar

    Donuts are what you need to pay for in real money to get objects to rebuild Springfield.

Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *