मैया किशोरी जु को सजा रहीं हैं

ओ लाली मेरी            प्यारी दुलारी

        कहकर जसोदा सजाये,

चमकीले लट               काले घन-घट,

        संवारकर वेणी बनाये ।

 

कितने दिनों की आस             आज बुझाये मैया प्यास

               हाथों से राधा को सजाये,

पहिनाये नवीन वसन            और कीमती भुषण,

               प्यारी को पुचकारती जाये ।

 

ऐसो मांग का सिन्दूर             कि उदित सूरज के गुरूर        

तोड़कर करे चूर चूर ।           

तिलक पे अलक[1]                  ललाट पे झलक

               पलक में ध्यान करे दूर[2]

 

जोगी-मुनि-जन                   के मोहित करे मन

               जब लट बलखाये,

तपस्वियों की क्या बात          कामदेव को दे मात

               उनके नख की छटाएँ ।  

 

नयन युगल         में सजाया काजल,

               पोंछा सुन्दर मुख,

भौंहों की रंगीली          भंगिम छबीली,

               मन्मथ को दें दुख ।

 

नासा के उपर              सुन्दर बेसर

               साँसों के संग डोले,

पुरुष-रतन                  को कर दे ख़तम

               उन की जान से खेले ।

 

कान के कान-फूल         हैं अमोल-अतुल

               जिसकी छटा रवि को घटाये,

दीवाना परवाना          हुआ अनंग मस्ताना[3]

               चरणों में लोट्पोट खाये ।

 

चन्दन-चर्चित              परम पुनीत

               पीन-पयोधर[4] जोड़

कञ्चुकी कसकर           उनको ढंक कर

               खींच दिया डोर ।

 

प्रवाल प्रबल[5]              आलोकित झलमल[6]

               बीच में काली मोती,

हेम हीरे मणि              इसपे है बूनी

               कञ्चुकी बिखेरे ज्योति ।

 

माँ यशोमती                              है प्यार की मूर्ति

               राई को लिया गोद में,

ये सब भुषण                              करके जतन

               पहिनाया उनके गले में ।

 

हृदय पे हीर-हार                 लागे अति मनोहर

               उसपे पदक[7] का साज,

देख कर दिनकर[8]          किरणों को समेटकर

               घर लौटे वह निलाज[9]

 

राम[10] काम शाला[11]             शंख शशिकला[12]

               शोभे बाहों पर ।

रतन कंगन                         बजे कनकन झनकन

               देखे काम चमककर ।

 

गाढ़े तार का साज                जैसे गति कामराज

               बाहों में पहिनाये,

उंगलियों पर अंगूठी              हैं ऐसी अनूठी

               काम का गुरूर कुचलाये ।

 

मेघ के गर्व                         को करे खर्व

सुन्दर नीला वास,

किंकिणी की आवाज़             जैसे मधुर साज़

बोले नट्खट भाष ।

 

मंजीर पैंजन                करके जतन

               पग में पहिनाये शेखर,

जसोदा-रोहिनी                   उल्लसित अपनी

               धनी को हसीन सजाकर  ।




[1] ज़ुल्फ

[2] राधाजी के ललाट पे जो तिलक या बिन्दी है, उसपे ज़ुल्फ गिर रहा है, इससे उनकी खूबसूरती और बढ़ रही है ; इसे कोई योगीन्द्र भी देखे, तो पलक झपकते ही उसका ध्यान टूट जायेगा ।

[3] अनंग अर्थात कामदेव (यहाँ पर श्यामसुन्दर) जिनका अन्दाज़ मस्ताना है, राधाजी के दीवाने हो जाते हैं ।

[4] स्तन

[5] गहरे लाल रंग के प्रवाल

[6] यह कञ्चुकी वर्णना है ।

[7] लॉकेट

[8] सूरज

[9] बेशर्म  की तरह लौट आया ।

[10] रामिणी ; रमण करनेवाली ;  यहाँ पर  राधाजी ।

[11] काम-कला का आलय

[12] बाहों पर अलंकार पहनी हुयीं हैं; यह अलंकार चन्द्रकला के आकार के शंखों से बना हुआ है ।