bhakti

You are currently browsing articles tagged bhakti.

Sri Sri Bishnupriyā-Gourāngou Jayatah



ātma shodhibār tore duhsāhas koinu,

leelā-sindhur ek bindu sparshite nārinu.

(Adwaita Prakāsh, 22nd Chapter)

 

I was so impudent as to seek self-realization; however I could not touch even one drop from the ocean of the Divine pastimes.

Sri Sri Bishnupriyā Devi love-sports on the bosom of Goursundar, is the daughter of Sri Sanātan and she is more than inconceivable. Read the rest of this entry »

Tags: , , , , , , , ,

Sri Nabadweep-Chandra appears

 

Sakhi Kanchanā was mad in Gour-prem. The piteous cry from her crystal clear heart penetrated the tough walls of Neelāchal-Gambheerā   and right into the heart of Sri Krishna Chaitanya Mahāprabhu.  He was discussing Krishna-kathā with the devotees. Abruptly he stopped the ishta-goshthi and bade farewell to the devotees. Then he entered the silent precincts of Gambheerā. Read the rest of this entry »

Tags: , , , , ,

 

अटरिया पर सुन्दर बगीचा है । उसके बीचोबीच मैं आसन बिछाऊँगी । तुम सखियों के साथ खूशी से उसपर बैठोगी । कब वह दिन आएगा जब तुम्हारे मुख में ताम्बूल अर्पण करूँगी और तुम्हारे चरणों को वक्ष में धरकर संवाहन करूँगी ? श्यामसुंदर को गैया दोहते हुए देखकर तुम्हारे अंग में पुलक होगा । तुम आनंद विभोर हो जाओगी । कब दीन कृष्णदास उस प्रेम को देखकर सुखी होगा ? हे प्राणेश्वरी, जल्दी से मुझे अपने चरणों में स्थान दो । Read the rest of this entry »

Tags: , , , , , , , ,

 

३९

 

गर्मी और बरसात के मौसम कितने मधुमय होते हैं । पेड़ और लताएँ , फल और फूलों से झुक जाते हैं । श्री कुण्ड के तट पर पेड़ खिल उठते हैं और सुन्दर दिखने लगते हैं । तोते और कोयल गाने लगते हैं। मोर मदहोश होकर नाचने लगते है । कहीं कहीं पक्षी ऊँची आवाज़ मे कलरव करते हैं । शाखाएँ एक दूसरे से जोड़कर मंडप का आकार लेती है । मत्त मधुकर विविध फूलों पे बैठकर गुंजन करते हैं। Read the rest of this entry »

Tags: , , , , ,

 


सखियों के आगमन         देखकर हर्षित मन

                धनी उठ बैठे शेज पर,

नयन मेलकर        मूंह धोकर

                सजे दिल भरकर ।

 

धनी हैं गुणवती             सभी कलाओं मे कलावती,

                जानकर श्याम का उद्देश,

मदन-मोहन के मन         को हरने के कारण

                धरतीं हैं निरुपम वेश ।

 

कुंचित केश में वेणी         काले परान्दे की साजनी,

                मृगमद से लिपे अंग,

नील वसन में धनी          ने सजाया तनि,

                नील भुषण से भरे अंग ।

 

हाथ में नील कमल         चलीं करने मनोरथ सफल,

                सारथी है “साहस-राज”,

मन्मथ से धरकर बाज़ी             चली धनी सजी-धजी

                तोड़ दिया कुल-लाज ।

 

घेर लीं सभी जुवती                बीच में बैठीं रसवती,

                हर पल दिल उचाट[1],

तब कवि शेखर              निकला कुंज से बाहर

                और निहारने लगा बाट ।

 

८५

 

 चल न सकई, हुस्न है भर,               

ढारस जुगाये सखियों के कर[2]

 

कामिनी कनकलता नवीना,

त्रिभुवन में नहीं कोई तुलना ।

 

अब राई धनी सत्वर

निभृत निकुंज में बैठीं जाकर ।

 

स्वर्ण चम्पा के कुंज माझ,

वृन्दा ने रचा विविध साज ।

 

विनोद बिछौना, विनोद वन,

देखकर शीतल होवे मन ।

 

फूलों के बीच बैठीं राधिका,

केश में फूल गुंथे विशाखिका ।

 

खिसके वसन, लजाये बाला,

ललिता पहिनाये मोहन-माला ।

 

गाये कोयल मधुर गीत,

द्रवित हो गया धनी का चित्त ।

 

दीवाना इश्क़ से रंगा मन,

चारों तरफ घेर लिये सखियन ।

 

प्राणप्यारे को न देख वन में,

आग धधकने लगी मन  में ।

 

कहे शेखर, “सुनो राई,

नागर न आवे, देखूं जाई ।

 

ओहो ! वे तो घर पर नींद में भोर “

झटपट शेज त्याजे नन्दकिशोर ।

 

जल्दी से निकुंज की ओर करे गमन,

“कहीं रात न बीत जाये”, दिल में धड़कन ।

 

८६

 

जलधर रूप, श्यामल कान्ति,

युवती-मन मोहे, वेश ऐसी भांति[3]

 

“धनी अनुरागिनी”, जानत सुजान[4],

घोर अन्धेरे में किया प्रयाण ।

 

परस्त्री से प्रीत की ऐसी ही रीत,

चले सूने पथ पर, नहीं कोई भीत[5]

 

कुसुमित कानन, कालिन्दी तीर,

वहां चलके आये गोकुल-वीर ।

 

शेखर पथ पर जाकर मिले,

नागर को किया राई के हवाले ।

 

अपरूप राधा-माधव मिलन,

उल्लसित होकर दोनों करें दरशन ।

 

आकूल अमृत सागर में डूब गये,

मधुर-केलि दोनों के, कोई कैसे कहे ?

 

८७

 

दोनों देखें दोनों मुख                सीमा नहीं ऐसो सुख

                पुलकित होवे दोनों तन,

चारों तरफ सखियों का ठाट              लगे जैसे चांद का हाट,

                बीच में सोहे राई-कान ।

 

दोनों के वचन सुनूं                  अमृत से अधिक मानूं

                सखियों के कान होवे शान्त,

देखकर मधुर-मिलन                उल्लसित हुये सखिगण

                फूलों से सजायें राधा-कान्त[6]

 

ललिता के इशारे पर               नर्मदा आयी लेकर

                फूलहार बिन धागे के ;

पहिनाये दोनों के गले              वक्ष के उपर  डोले

                नयन हुए शीतल सभी के ।

 

शेखर मीठी बातें करे,              बोले वचन धीरे धीरे

                बगीचे की शोभा देखने,

सुनकर चतुर कान                  दिल में कुछ लिया ठान

                धनी के हाथ पकड़कर लगे उठने ।

 

८८

 

गलबाहें डालके घूमें दोनों, शोभा लगे न्यारी,

दोनों के रूप से दसों दिशायें होवे उजियारी ।

 

नव-युवतियां चलें दोनों पास,

वन की माधुरी देख हास-परिहास ।

 

जाती, युथी, मल्लिका, मालती, नागेश्वर,

कदम्ब, बकुल, और चम्पक मनोहर ।

 

तमाल-माधवी वन अति गहन-तर[7],

अशोक और किंशुक लगे सुन्दर ।

 

वृन्दावन फल-फूलों से है भर,

माधव-माधवी फिरें स्वजन लेकर ।

 

फूल-वन शोभा दोनों देखें अनुखन[8],

फल-वन देखने को किया गमन ।

 

आम, जाम[9], बिल्व, पिलू, गुवाक, नारियल,

बादाम, छुहारा, लिम्बू, कपित्थ सकल[10]

 

कंवला, पियाला और पनस, खजूर,

अंगूर, अनार, अननस सुमधुर ।

 

ताल, बेर, केले के जितने कानन,

प्रफुल्लित होकर दोनों करें भ्रमण ।

 

यन्त्रशाला में आये नागरी-नागर,

इस वक़्त विविध यन्त्र लाया शेखर ।

 

 

 

 

Tags: , , , , , , , , ,

कच्चे कंचन सी कान्ति कलेवर की,

                चितवन कुटील सुधीर,

बहुत पतली चीर से ढंके हैं तन

                जावत सुरधुनी तीर । Read the rest of this entry »

Tags: , , , , , , , ,

 

अटरिया पे उठ कर देखे कानू,

मन्दिर के छत पर धनी, पुलकित तनू ।

 

दूर से दोनों एक दूजे को देखें,

अवश हुये तन, कैसे जिया रखें ?

  Read the rest of this entry »

Tags: , , , , , , , , , ,

राधा सरसी         होकर हरषी

                भवन में बैठीं बाला,

सुरस व्यंजन         किया रन्धन,

                भरईं[1] स्वर्ण-थाला ।

 

ढंककर वसन से             रखकर जतन से

                करने गयी स्नान,

दासियों के संग              हुआ रस-रंग

                करते हुये स्नान ।

 

अन्दर जाकर        बहुत जतन कर

                पहिना मोहन-वेश,

अट्टाली[2] पे उठकर          फिराये नज़र

                दिवस हुआ शेष ।

 

तुलसी लौटकर              नज़र बचाकर

                दिया लड्डू का थाल,

अगुरु चन्दन                 मधुर बीड़ा-पान,

                और फूलों का माल ।

 

शेखर हरषी                 कहे, “ तुलसी ”,

                लेकर उसका हाथ,

धनिष्ठा को लेकर            आना चलकर

                समझकर  संकेत-बात ।

 

——————

 

देख दिन अवसान[3]         चले चतूर कान

                जा पहुंचे कदली[4] कानन,

सुबल मंगल संग             करे नाना रस-रंग

                कदली खाये प्रत्येक जन ।

 

मिलके सखाओंके साथ             केले दिये सबके हाथ

                खाये सब हरषित होकर;

पहनकर वन-फूल           लपेटे रंगीन धूल

                गैया को ले जाये घर ।

 

धेनु[5] बने घर-मुखी[6]        चले होकर महा-सुखी

                पूंछ अपनी ऊपर कर,

नाच-नाचकर जाये         बच्चे पीछे धाये[7]

                धूल से गगन गया भर ।

 

शिंगा लेकर दाऊ            बुलाये सब गौ,

                मदमस्त हुये सघन[8],

थिरक रहे चरन             घूर्णित हैं नयन

                गदगद न स्फुरे वचन ।

 

कमली बछिया स्कन्ध[9]             चले मत्त गज छन्द[10]

                जोर से बुलाये, ‘‘कानाई !”

कानू वेणू बजाये            गैया को प्यार से बुलाये

                ताकि एक भी वन में छूट न जाई ।

 

शिंगा-वेणू मिलकर         छेड़े तान सुस्वर

                सुने सब ब्रजलोक,

मैया-बापू हरषित          कुलवती पुलकित

                भूल गये सब दुःख-शोक ।

 

जब जाबट आया            अपने अपने गैया

                को लेकर गये गोपगण;

शेखर झट से         कहा सुन्दरी से

                “मिलो नागर से इसी क्षण” ।

 

—————-

 

सुन्दरी हे ! देखो, वह रहा वनमाली !

दिवस के अन्त               कामदेव-मूर्तिमन्त

जा रहे हैं नव-यौवनशाली !

 

तरुणी-लोचन               ताप-विमोचन

                हास्य सुधाकर-धारी

मन्द मुस्कान         मोर-पिच्छ शान

                उज्ज्वल नवल-विहारी ।

 

धेनू खूर-उद्धृत[11]           रेणू परिप्लुत[12]

                प्रफुल्लित कमल-मुख

केलि-मुरली बजावत               रति-नयन फिरावत

                दें यु्वती गण को सुख ।

 

चारु सनातन तन           नयन-रस-रंजन

                सखा संग आये,

राधिका-चातकी-नयन             श्याम संग लड़ाये नयन

                दिल में सुधा बरसाये ।

 

एक दूजे को देखहु           पलट न सकहु

                दोनों पर कुसुम-शर बरसे,

अवश हुये देह               चरन चल न सकेह

                पुलकित तन-मन तरसे ।

 

सुबल समझकर सब                रोके राधा को तब

                हाथ पकड़ के ले गये कान,

कान्हाप्रिया कहे,           ‘‘राधा को कौन समझाये ?

                कानू के लिये तरसे है मन” ।

 



[1] सोने की थाली भर गयी

[2] balcony

[3] दिन का अन्त होते हुये देखकर

[4] केले का बगीचा

[5] गाय

[6] घर की तरफ मूंह कर लिया

[7] भागे

[8] बहुत ज्यादा

[9] कन्धे पे कमली नामकी बछिये को उठा लिया

[10] दाऊजी मदहोश हाथी की तरह चल रहे हैं

[11] गौओं के खूर से उठे

[12] धूल से नहाये हुय

Tags: , , , , , , , , , ,

 

जय शची-नन्दन भुवन आनन्द !

नवद्वीप में उछले नव-रस-कन्द !

 

गो-क्षूर धूल देखकर, सुन वेणू-निसान,

“अपरूप श्याम मधुर-मधुर-अधर मृदु मुरली-गान”

 

ऐसा कहकर भाव-विवश गौर, कहे गदगद बात,

“श्याम सुनागर वन से आवत सब सहचरों के साथ ।

 

मेरे तन मन नयन को पड़े चैन, सफल हुआ देह”।

राधामोहन कहे, “कैसा अचरज ! यही तो है वे[1] ।”

 

————–

 

Tags: , , , , , , , , ,

राधा-माधव उठे शयन से अलस-अवश शरीर,

वनेश्श्वरी उस क्षण करके जतन लायी शारी-शुक कीर[1]

 

शुक-शारी को देखकर दोनों को हुआ आनन्द,

राई के इशारे पे वृन्दा पढ़ावे गीत-पद्य सुछन्द[2]

 

कानू के रूप लक्षण         शुक करे वर्णन,

प्रेम-प्रफुल्लित पांख,

शारी पढ़त           राई गुण भावत

                कानू के जानकर कटाख[3]Read the rest of this entry »

Tags: , , , , , , , , , , ,

« Older entries